Kernel क्या है - What is Kernel in Hindi

अगर आप को नही पता की Kernel क्या है (What is Kernel in Hindi). तो इस आर्टिकल को पढने के बाद आपको पता चल जाएगा की kernel क्या होता है ये कैसे काम करता है और भी बहोत कुछ इसके बारे में. kernel से जुडी सभी बाते में आपको इस आर्टिकल के जरिये बताऊंगा तो आखिर तक जरुर पढियेगा.


आप सभी के पास computer या लैपटॉप तो होगा ही और आपने देखा होगा की कभी कभी उसमे एक एरर मेसेज आता है जिसमे लिखा होता है kernel error. अगर आपने नही भी देखा ये तो ममे आपको बता दू की kernel computer का ही एक पार्ट है. बिना kernel के computer को इस्तेमाल ही नही कर सकते. और सिर्फ computer ही नही kernel का interfere smartphones में भी है यानी की kernel smart फोंस में भी होता है.

तो इसीलिए kernel के बारे में जानना जरूरी है की आखिर kernel क्या है. kernel को जानने के लिए आपको ये आर्टिकल पूरा पढना होगा फिर आप समझ ही जाओगे की kernel क्या है. तो चलिए अपने टॉपिक की तरफ चलते है.


Kernel क्या है - What is Kernel in Hindi

What is Kernel in Hindi
What is Kernel in Hindi

तो जैसे की मेने आपको अभी बताया की kernel computer और smartphones दोनों में होता है. तो kernel एक central part है Operating System का. यानी की जितने भी devices है जिसमे OS (Operating System) का इस्तेमाल होता है उन सभी में kernel होता है. घुमा फिरा के बात ये है की kernel ऑपरेटिंग सिस्टम का सेंट्रल पार्ट है जो की ऑपरेटिंग सिस्टम को मैनेज करता है.

और सिर्फ ऑपरेटिंग सिस्टम ही नही ये हार्डवेयर, मेमोरी और CPU time को भी मैनेज करता है. इससे पहले की में आपको इन् सभी के बारे में बताऊ आपको पता होना चाहिए की Hardware और Software क्या है और RAM (Random Access Memory) के बारे में भी आपको पता होना चाहिए तभी आप kernel के बारे में अछे से समझ पाओगे.

Hardware

हार्डवेयर computer के ही कॉम्पोनेन्ट होते है जो की हार्ड होते है और उन्हें हम touch कर सकते है महसूस कर सकते है. तो computer components को ही हार्डवेयर कहा जाता है. यानी की जो भी हार्ड कॉपी है computer में और in कंपोनेंट्स को Physical state होती है. जैसे Mouse, Keyboard, Monitor, Printer, Speaker, Hard Disk etc. ये सभी हार्डवेयर है.

Software

Software वो चीज़े हूति है जो की आप अपने computer में इनस्टॉल करते हो जिन्हें हम छु नही सकते महसूस नही कर सकते और जिनकी कोई Physical स्टेट भी नही होती. जैसे VLC Media Player,  Adobe Photoshop, WinRAR, etc. और OS यानी की Operating System भी एक सॉफ्टवेर ही है.

Kernel



Hardware और Software क्या है ये अब आपको पता चल गया तो चलिए फिर से टॉपिक की तरफ बढ़ते है. Kernel हार्डवेयर और सॉफ्टवेर में इंटरेक्शन करवाता है. यानी की आप जब भी अपने computer के किसी भी हार्डवेयर को कुछ भी कमांड देते हो तो kernel सॉफ्टवेर को बताता है की हार्डवेयर पे क्या कमांड मिली है और फिर क्या परफॉर्म करवाना है. मतलब ये है की Hardware और Software में इंटरेक्शन करवाता है Kernel.

और इसका दूसरा काम ये है की ये सिस्टम के स्टार्ट होने पर memory यानी की RAM (Random Access Memory) देता है उन सॉफ्टवेर को जिन्हें जितनी जरुरत होती है. मान लो एक सॉफ्टवेर को 800 MB चाहिए तो Kernel उसे RAM की 800 MB प्रोविडे करवाएगा.
RAM एक computer memory है जो की सॉफ्टवेर को स्टोर करती है और जिससे की सॉफ्टवेर अछे से रन कर पाते है.

Kernel का memory पर और Input/Output सर्विस पर पूरा कण्ट्रोल रहता है. ये memory भी मैनेज करता है और Hardware और software में इंटरेक्शन भी कराता है. यहाँ पर हार्डवेयर होगये Keyboard, Mouse, Speaker और सॉफ्टवेर यानी की OS (Operating System).

Kernel कैसे काम करता है

Kernel को दो पार्ट में डिवाइड किया गया है और दोनों का ही अपना अलग अलग काम है. Kernel दो प्रकार के है Micro Kernel और Monolithic Kernel

Micro Kernel



Micro Kernel ऑपरेटिंग सिस्टम में ज्यादा काम नही करता. इसका काम सिर्फ इतना है की इसे सिर्फ memory और CPU को मैनेज करना होता है. Micro Kernel छोटा है Monolithic kernel से. kernel basically code होते है. Micro Kernel ऑपरेटिंग सिस्टम को mechanism प्रोविड करवाते है जो की operating सिस्टम को चाहिए होता है. यानी की जिस भी सॉफ्टवेर को जितनी RAM (Random Access Memory) की जरुरत है Micro kernel उस सॉफ्टवेर को उतनी RAM प्रोविडे करवाता है. और Micro kernel का एक और function है की ये आपके computer, laptop या smartphone के CPU (Central Processing Unit) को भी मैनेज करता है.

Monolithic Kernel

Operating System में सबसे बड़ा role Monolithic kernel का है. आपको तो पता ही है की Operating System हार्डवेयर और सॉफ्टवेर को मैनेज करता है और इसमें drivers इनस्टॉल होते है जिनकी वजह से हमारा computer work करता है. Monolithic kernel drivers को मैनेज करता है जिससे के ऑपरेटिंग सिस्टम सही से work कर पाता है. अगर आप अपने computer में beta drivers इनस्टॉल करदेते हो तो kernel में fault आजाता है जिसकी वजह से computer स्लो चलने लग जाता और cease हो जाता है. और ये Micro Kernel से साइज़ में बड़ा होता है.

Kernel से कोई भी यूजर इंटरैक्ट नही कर सकता है. यानी की आप kernel को अपने computer या operating system में नही देख सकते. क्युकी kernel बैकग्राउंड में काम करता है आप इसे नोर्मल्ली देख नही सकते.
Kernel kya hota hai
Kernel kya hai

Conclusion



तो दोस्तों में आशा करता हूँ की आपको ये आर्टिकल पसंद आया होगा और आप समझ गये होगे की आखिर Kernel क्या है (What is Kernel in Hindi). और ये कैसे काम करता है और आपके computer लैपटॉप और smart फोंस के लिए ये कितना जरुरी है. क्युकी बिना kernel के कोई भी operating system work नही कर सकता है. और Apple के MAC OS में hybrid kernel का इस्तेमाल किया जाता है जिससे XNU कहा जाता है. और ये Apple कंपनी ने ही बनाया है.

तो दोस्तों आज के लिए सिर्फ इतना ही अगर आपके मन में कोई भी सवाल हो Blogging और Technology से रिलेटेड या फिर आप हमें इस वेबसाइट से रिलेटेड कुछ suggestion देना चाहते हो तो निचे कमेंट करके जरुर बताना और में फिर मिलूंगा आपसे अपने नेक्स्ट आर्टिकल में तब तक लिए.

जय हिन्द, वन्दे मातरम

No comments:

Post a Comment